डायबिटीज से पीड़ित लोग अवश्य खाएं ये फल, तुरंत दिखने लगता है असर…!

भारत में तेजी से डायबिटीज यानी कि मधुमेह की रोग फैल रही है। इस रोग का अहम वजह खानपान में लापरवाही है। लिहाजा हम अपने खानपान को संयमित कर और व्यायाम के जरिए इससे आजादी पा सकते हैं। डायबिटीज के मरीज ज्यादातर ऐसे फलों से दूरी बना लेते हैं, जिनमें शुगर की मात्रा ज्यादा होती हैं। डायबिटीक लोगों को मानना है कि इनसे ब्लड शुगर लेवल बढ़ता है मगर बहुत फल ऐसे होते हैं, जिनमें ब्लड शुगर को कंट्रोल करने वाले तत्व जैसे विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर उपस्थित होते हैं। वहीं इन फलों में पॉलीफेनोल नामक तत्व भी होता है, जो बल्ड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखता है। इसलिए डायबिटीक मरीज को इस बात का अवश्य पता होना चाहिए कि वे खाने में क्या खाएं और किन चीजों से दूरी बना लें।

Loading...

पपीता- डायबिटीज के मरीजों को नियमित रूप पपीता खाना चाहिए। इसमें भारी मात्रा में विटामिन और आवशयक न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं। साथ ही इसमें फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट्स भी सम्लित होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर में कोशिकाओं को डैमेज होने से बचाते हैं। दिल और नर्वस सिस्टम को सुरक्षित रखते हैं।

अमरूद- फाइबर होने के वजह ये डायबिटीज में होने वाली कब्ज की रोग को दूर करता है। साथ ही ये डायबिटीज टाइप-2 के खतरे को कम करता है। अमरूद में उपस्थित पोटेशियम ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने का काम करता है। इतना ही नहीं, अमरूद में विटामिन -ए और विटामिन-सी भरपूर मात्रा में होता है।

आड़ू- इसमें भरपूर मात्रा में पोटेशियम, फाइबर, विटामिन ए और विटामिन सी मौजूद होता है। आड़ू का से 56 के बीच होता है, जो इसके साइज पर निर्भर करता है। गौरतलब है कि जिन फलों का 55 से कम होता है, वे डायबिटीज के मरीजों के लिए सुरक्षित होते हैं।

नाशपाती- इसमें कैल्शियम, आइरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन सी, विटामिन ई, विटामिन के, फोलेट, बीटा कैरोटीन, ल्यूटिन, कोलिन और रेटिनॉल सहित सभी आवशयक मिनरल्स पाए जाते हैं। इसका अलबत्ता भी काफी कम होता है।

Loading...

चेरी- इसमें ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं, जो शरीर में इंसुलिन की मात्रा को नॉर्मल कर ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखते हैं। चेरी के छिलके में उपस्थित लाल रंग दिल के लिए लाभदायर्क होता है।

अनार- डायबिटीज के मरीजों में दिल की रोग होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है। अनार में भारी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। ये शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। साथ ही अनार शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम कर के डायबिटीज को कंट्रोल करने में सहायता पहुंचाता है।

सेब- इसमें भारी मात्रा में सॉल्युबल फाइबर होता है। ये डायबिटीज के मरीजों में होने वाले इंफेक्शन को जल्दी ठीक करने में सहायता करता है। इसके अतिरिक्त सेब में पेक्टिन भी उपस्थित होता है, जो ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखता है। साथ ही सेब में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण भी पाए जाते हैं, जो शरीर में कोलेस्ट्रोल को कम करते हैं। डाइजेस्टिव और इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में भी मददगार सिद्ध होते हैं।

तरबूज- इसमें किसी भी प्रकार का कोई फैट या कोलेस्ट्रोल नहीं होता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं, जो डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभदायक होते हैं। तरबूज में उपस्थित फाइबर डाइजेस्टिव सिस्टम को सही रखने और कोलेस्ट्रोल को नियंत्रण में रखने में सहायता करता है।

ब्रोकली- ब्रोकली फैट फ्री और शुगर फ्री होती है। इसे डाइट में सम्लित करने से आप बहुत प्रकार के आवशयकता पोषक तत्वों की भी पूर्ति कर सकते हैं। इसमें विटामिन ए, सी, डी, ई और ‘के’ के अलावा डाइटरी फाइबर, कैल्शियम और बहुत प्रकार के मिनरल्स जैसे आयरन, फास्फोरस, जिंक एवं पोटेशियम भरपूर मात्रा में होता है। इतना ही नहीं, ब्रोकली काफी ही स्ट्रॉन्ग एंटी ऑक्सीडेंट्स भी है, जो फ्री रेडिकल्स से बचाकर बहुत रोगों का खतरा कम करती है।पत्तागोभी- इसमें फैट और शुगर की मात्रा नहीं होती है। लो शुगर वाले फूड्स में ये बढ़िया विकल्प हो सकता है। यदि पोषक तत्वों की बात की जाए तो इस फूड में विटामिन ए, सी, डी, के और ई होता है। इसके अतिरिक्त पत्तागोभी कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक एवं सोडियम का भी अच्छा स्रोत है।

loading...
Loading...