इस समय भाकपा-माले का तेजस्वी यादव करेंगे चुनाव प्रचार, कभी लालू खिलाफ थी पहचान…!

ये बदलते राजनीतिक समीकरण का विषय है या लोकतंत्र की सुंदरता, जिस लालू प्रसाद के विवाद में बीजेपी माले संघर्ष करती रही। पार्टी टूटी और चार विधायक राजद में सम्लित हो गये, उसी पार्टी के लिए अब तेजस्वी यादव स्टार प्रचारक होंगे।

Loading...

बीजेपी-माले ने राजद नेता तेजस्वी यादव को अपने स्टार प्रचारकों की सूची में अनौपचारिक तौर पर सम्लित किया है। आरा लोकसभा सीट के लिए तेजस्वी भाकपा-माले दावेदार के लिए प्रचार करेंगे। इतना ही नहीं महागठबंधन के भीतर सीटों के तालमेल में राजद ने आरा लोकसभा सीट पर बीजेपी-माले को समर्थन दिया है। वहीं, भाकपा-माले ने पाटलिपुत्र सीट पर राजद दावेदार मीसा भारती को समर्थन किया है।

बीजेपी-माले के नेता ने कहा

बीजेपी-माले के राज्य सचिव कुणाल ने कहा कि लालू प्रसाद का जमाना और इस समय की राजनीति में बहुत बदलाव आया है। फिलहाल राष्ट्र को बचाने की बात है। बीजेपी दोबारा से सत्ता में आयेगी, तो वह संविधान को समाप्त कर देगी। ऐसे में हमारी रंजिश का कोई मतलब नहीं है। जहां तालमेल हुआ है या जहां नहीं हुआ है। जनता को मालूम है कि वहां वोट कैसे और किसे देना है।

Loading...
लालू और बीजेपी-माले के बीच हमेशा होती थी तनातनी

राजद अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के वक़्त राजद और भाकपा-माले के बीच हमेशा तनातनी की स्थिति होती थी। विधानसभा के भीतर हो या सड़क भाकपा-माले ने राजद की सरकार का कड़ा विवाद किया था। सीवान में बीजेपी-माले को राजद नेताओं से काफी प्रताड़ित भी होना पड़ा था। लालू प्रसाद के प्रभाव से बीजेपी-माले विधायक दल में भी टूट हो गया था।

माले के टिकट पर चुनाव जीत कर विधायक बने श्रीभगवान सिंह समेत चार विधायकों का गुट दल से अलग हो कर राजद में सम्लित हो गया था। 1990 के दशक की यह घटना इतिहास के पन्नों में कैद है। बिहार का राजनीतिक समीकरण बदला है। बीजेपी विरोध में खड़ी दोनों पार्टियां 2019 के लोकसभा चुनाव में एक-दूसरे के लिए मिलकर प्रचार कर रही हैं। माले सीवान, जहानाबाद व काराकाट में चुनावी लड़ाई को त्रिकोणात्मक बना रहा है।

कहीं साथ तो कहीं दूर, पर लक्ष्य बीजेपी को हराना

आरा में एक साथ प्रचार करने वाली दोनों पार्टियां जहानाबाद व सीवान में एक-दूसरे के सामने खड़ी है। वहीं, काराकाट में महागठबंधन के उम्मीदवार उपेंद्र कुशवाहा चुनाव मैदान में हैं। बीजेपी-माले ने कहा कि भले ही सीवान, जहानाबाद व काराकाट में तालमेल नहीं हो पाया है, किन्तु हमारा लक्षय एक है कि संविधान को समाप्त करने में जुटी पार्टी बीजेपी को सत्ता से हटाएं। इसलिए हमारा चुनाव प्रचार इन जगहों पर अलग-अलग होते हुए भी लक्ष्य एक है।

loading...
Loading...